GUNVANT SHAH AWARDED BY MAHARASHTRA

GUNVANT SHAH AWARDED

2 thoughts on “GUNVANT SHAH AWARDED BY MAHARASHTRA

  1. जो हिंदू इस घमंड मे जी रहे है कि अरबो सालो से हिंदू सनातन धर्म है और इसे कोई नही मिटा सकता
    मै उन्हें मुर्ख और बेवकूफ ही समझता हूँ | आखिर अफगानीस्तान से हिंदू क्यों मिट गया ? काबुल जो भगवान राम के पुत्र कुश का बनाया शहर था आज वहाँ एक भी मंदिर नही बचा | गंधार जिसका विवरण महाभारत मे है जहां की रानी गांधारी थी आज उसका नाम कंधार हो चूका है और वहाँ आज एक भी हिंदू नही बचा | कम्बोडिया जहां राजा सूर्य देव बर्मन ने दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर अंकोरवाट बनाया आज वहा भी हिंदू नही है | बाली द्वीप मे २० साल पहले तक ९०% हिंदू थे आज सिर्फ २०% बचे | कश्मीर घाटी मे सिर्फ २० साल पहले ५०% हिंदू थेआज एक भी हिंदू नही बचा | केरल मे १० साल पहले तक ६०% जनसंख्या हिन्दुओ की थी
    आज सिर्फ १०% हिंदू केरल मे है | नोर्थ ईस्ट जैसे सिक्किम, नागालैंड , आसाम आदि मे हिंदू हर रोज मारे या भगाए जाते है या उनका धर्मपरिवर्तन हो रहा है | मित्रों, १५६९ तक ईरान का नाम पारस या पर्शिया होता था और वहाँ एक भी मुस्लिम नही था सिर्फ पारसी रहते थे .. जब पारस पर मुस्लिमो का आक्रमण होता था तब पारसी बूढ़े बुजुर्ग अपने नौजवान को यही सिखाते थे की हमे कोई मिटा नही सकता . लेकिन ईरान से सारे के सारे पारसी मिटा दिये गए .. धीरे धीरे उनका कत्लेआम और धर्मपरिवर्तन होता रहा . एक नाव मे बैठकर २१ पारसी किसी तरह गुजरात के नवसारी जिले के उदवाडा गांव मे पहुचे और आज पारसी सिर्फ भारत मे ही गिनती की संख्या मे बचे है । हमेशा शांति की भीख मांगनेवाले हिन्दुओं ….. आजतक के इतिहास का सबसे बड़ा संकट हिन्दुओं पर आने वाला है , ईसाईयों के ८०देश और मुल्लो के ५६ देश है और हिन्दुओं का एकमात्र देश भारत ही है । जो अब हिन्दुओं के लिए सुरक्षित नहीं रहा. भारत को एक फ़ोकट की धर्मशाला बना दिया गया जहाँ इसके मेजबान हिन्दू ही बहुत जल्दी मुल्लो की सेना तैयार करने वाली संस्था PFI द्वारा शुरू होने वाले गृहयुद्ध में कश्मीर की तरह पुरे भारत में हिन्दुओं के हाथ पैर काट दिए जायेंगे, और कश्मीर की ही तरह उनकी सुरक्षा के लिए कही पे भी सरकार नाम की दलाल संस्था कोई भी सेना नहीं भेजेगीे ।हिन्दू खुद तो ख़तम हो रहा है और समस्त विश्व के कल्याण की बकवास करता फिरता है जबकि समूचा विश्व ईसाई और मुल्ला उसको पूरी तरह निगल लेने की पूरी तैयारी कर चूका है… आज तक हिन्दू जितनी अधिक उदारता और सज्जनता दिखलाता रहा है , उसको उतना ही कायर और मुर्खमान कर उस पे अन्याय और हर तरह का धार्मिक , सामाजिक और आर्थिक विश्वासघात किया जाता रहा है …और हिन्दू आंख बंद करके कहावतों में जिंदा रहकर बस भगवान के शांति स्वरूपं की पूजा करते करते मर चूका है । जबकि हमारे किसी भी देवी देवता का स्वरुप अश्त्र -शस्त्र के बिना नहीं है । हमारे धर्म में धर्म की परिभाषा के १० लक्षणों में अहिंसा नाम का कोई शब्द ही नहीं है, रक्षा किया धर्म ही हमहिन्दुओ की रक्षा कर सकता है….. इसके बाद भी अति भाग्यवादी,अवतारवादी हिन्दुओं ने आज तक अपनी दुर्दशा के इतिहास से कोई सबक न लेकर आज भी नोनसेकयुलर होने का नशा लेकर मुर्छित होकर जी रहा है और अपने ही कुछ शुभचिंतक भाइयों को सांप्रदायिक कहकर उन्हे नपुंसक बनने की सीख देता फिरता है, जाग जाओ ..!!! अभी भी वक्त है।
    તથ્ય જણાવશો, દિવ્ય ભાસ્કર, રવિવારે, રાહ જોઇશ.
    ૩૦ વર્ષ થી કશુંજ પૂછવાની જરૂર લાગી નથી.આસ્થા પૂરી કરશો. કમલેશ શાહ મીરાં રોડ, મુંબઈ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s